Shayari on Zindagi

Shayari on Zindagi: Here You Will Get! All types of  Shayari on Zindagi In Hindi. which will make your Thinking much better, What Will  You Feel On These Shayari on Zindagi. All Shayari on Zindagi Is New And Best Shayari on Zindagi.

Note :-
“यहाँ आपको हर प्रकार की एक Shayari on Zindagi  हिंदी में मिल जाएगी ! जो की बिलकुल नई हैं और इसी वेबसाइट से published हैं,यहाँ की सारी जिन्दगी  शायरी किसी भी वेबसाइट से कॉपी नहीं की गयी हैं, यहाँ की सारी Shayari on Zindagi इस वेबसाइट के admin के द्वारा ही लिखी गयी हैं,भावना का मेल खाना बस एक संजोग हैं,”

Shayari on Zindagi

  • जिन्दगी भी कितनी गजब हैं, अक्सर उनसे उम्मीद कर लेता हैं जो कभी उम्मीद के काबिल भी न हो सके !

Shayari on Zindagi

  • बीतें लम्हों में हम उन्हें याद करते रहे,और वो तो किसी और से ही मोहब्बत की बात करते रहे !
  • फर्क क्या परेगा ज़नाब मोहब्बत में,वो तो कल भी आवारा ही समझते थे हमें मोहब्बत में !
  • गुमान बहुत हैं उन्हें, पर किस बात का मालूम ही नहीं !
  • सब्र कर ए जिन्दगी जितनी तलूफ में तू हैं,उससे ज्याद तो लोग तुझे सम्हलने न दे रहे !
  • वक्त पर उसे बड़ा गुमान था,sala वक्त ही था जो बहुत बेमान था !
  • हुनुर तो यहाँ लोगों के पास हैं ज़नाब..वक्त के साथ अपनों को भी भूल जातें हैं..!
  • कौन कहता हैं की कमबख्त मोहब्बत सबकुछ होती हैं जीने के लिए,मेने तो माँ बाप की मोहब्बत ही देखी हैं जमी पर बिखरते हुए !
  • ज़नाब वो हमें क्या याद करेंगे मतलबी,जो ठीक से अभी तक अपने माँ बाप को याद तक न किए हो !
  • वक्त माना करवाते बदलती हैं,पर कब यही तो नहीं पता हैं ज़माने में !
  • वो कहते हैं हमें छोड़ कर बड़ा पछताओगे,अरे जो अपनों काम न आ सके,वो मेरे क्या खाख काम आओगे !
  • तनाह था मुसाफ़िर बन कर राहों में,वो तो मेरी परछाई थी जिसने सिर्फ मेरा साथ दिया !
  • मुकम्मल होगी ये जहाँ मेरी बस सब्र और वक्त का इतंजार अभी और करना होगा मुझे !
  • वो क्या समझ पाएंगे मुझे,जिन्होंने कभी कोशिश ही नहीं करी मुझे समझ पाने की !
  • वक्त वक्त की बात हैं और पता हैं आज नहीं तो कल ये वक्त होता सबके साथ हैं !
  • तू चिंता मत कर मेरी,आज नहीं तो कल दुनिया खुद समझ जाएगी मेरे बारे में !
  • जिन्दगी में कबसे सहारे की ज़रूरत पड़ गई,साहब हम आए भी अकेले थे और जाएंगे भी अकेले !

zindagi na milegi dobara shayari

  • गुमान मत कर, मत कर इतना घमंड,क्योंकि टूटते इन घमंड़ो को तनिक वक्त भी नहीं लगता साहब !

  • जिन्दगी ना मिलेगी दोबारा इसी लिए तो सम्हल कर चल,अपनी ही पहचान बनानी हैं तो जरा लोगों से बदल कर चल !
  • वो जीजान लुटा देते थे दोस्तों पर,जो आज उसका हाल चाल पूछने को एक कॉल तक नहीं करते !
  • क्या करे फ़ितरत नहीं हैं अपने बदलने की,वर्ना कई अपनों को ही देखा हैं रंग बदलते जिन्दगी में !
  • खामोश हु..क्योंकि थोरी इज्ज़त करता हु,जिस दिन अपने पे आ गया न तो बेज्जत करने में time नहीं लगेगा !
  • अपनी जिन्दगी तो आज भी खाश हैं,पता नहीं काहेको वो न जाने हमशे नाराज हैं !
  • उन्हें ज़नाब मतलब नहीं हैं हमसे वो तो आज भी मेरे पैसो के पीछे भागते हैं..बाप के पैसे को मेरे पैसे से आकते हैं !
  • ज़माने को बहुत चिंता हैं मुझे लेकर लगता हैं अपनी भी तक़दीर का फैसला ख़ुदा ने कर ही दिया !
  • हम तो एक मुसाफिर हैं अपने अपने मजिल के !
  • गुमान बहुत हैं उन्हें,पर किस बात का उन्हें खुद पता ही नहीं !
  • समस्या हैं वो मोहब्बत जताते नहीं और एक हम हैं जो किसी को बताते नहीं !
  • बात बस इतनी सी हैं की मोहब्बत उनसे बेपनाह हैं..और उनका होने वाला जल्द निगाह हैं !
  • रूठ जाते तो हम अपनों से,मागर बेसहारा को सहारा देने वाले भी मेरे अपने ही थे !
  • आज कैसा भी हु मैं ज़माने में,पर अपनी माँ के लिए तो आज भी एक दुलारा छोटा बच्चा ही हु अपने माँ के लिए !
  • सब्र रख तो सही,मोहब्बत भी मिलेगी और मुकाम भी !
  • हमें तो बहुत फिक्र थी उनकी,बस उन्हें ही नहीं मालूम था की,जुवा पर जिक्र थी उनकी !

zindagi ki sachai shayari

  • दुसरो से क्यों खपा हो भला जब दोष अपने ही अन्दर हो तो !

Shayari on Zindagi

  • वक्त बदल जाता हैं..मगर इंसान एक इंसान को ज़रूरत के वक्त ही काम आता हैं !
  • क्यों रूठ जातें हो अपनों से,वो बस जीना  सिखाते हैं तुम्हारे सपनो से !
  • रास्ते चाहे अलग हो मगर ध्यान तो हर वक्त मंजिल की और ही रहना चाहिए !
  • वो कहते हैं मैं उन्हें याद नहीं करता,अरे वो क्या जाने की मैं मोहब्बत में कभी वक्त बर्बाद नहीं करता !
  • जिन्दगी की एक अलग ही सच्चाई हैं,यहाँ दुसरो के लिए नहीं खुद के लिए लड़ना पड़ता हैं ज़नाब !
  • मोहब्बत पर क्या ही गुमान करे जब उन्हें मोहब्बत ही हो दिखाबे की !
  • ज़माने को बहुत चिंता हैं मुझे लेकर लगता हैं अपनी भी तक़दीर का फैसला ख़ुदा ने कर ही दिया !
  • हम तो एक मुसाफिर हैं अपने अपने मजिल के !
  • उन्हें ज़नाब मतलब नहीं हैं हमसे वो तो आज भी मेरे पैसो के पीछे भागते हैं..बाप के पैसे को मेरे पैसे से आकते हैं !
  • वो भी अजीब हैं अपने दिल की बात लोगों को सुना देते हैं,माना मोहब्बत हैं नहीं तो फिर क्यों नहीं सीधा सीधा जाता देते हैं,आकर मुझसे ही क्यों नहीं बता देते हैं !
  • आज कल उन्हें भी अपनों को याद करने लगे,जिन्हें कभी ज़रूरत ही नहीं समझ आती थी अपनों की !

Thank You:-

“Hope! You Enjoy These Shayari on Zindagi In Hindi. If You Want to really appreciate our work ! then please give your feedback while using the contact form, If You get any Mistakes On these Shayari on Zindagi In Hindi, Then please contact Us”

“आशा हैं की आपको ये एक Shayari on Zindagi स्टेटस अच्छा लगा होगा,आपसे बिनती  हैं,की अगर आपने इस Shayari on Zindagi में  असुधिया पाई हो तो ज़रूर सूचित करे”