Sayri ki Dayri

Sayri ki Dayri : यहाँ आपको हिंदी में सारे

शायरी मिल जाएंगे

माना की तुम रूठ जाना,
पर मेरी खता तो बताते जाना,
—————————————–

वो बरा हमें अपना बताते थे,
काम नहीं आए, हमारे वक्त पे…
और हमें ही अपनापन सिखाते थे,
—————————————–

दोस्ती का मतलब, तुम क्या समझोगी,
जिसे मेरे दोस्तों की कदर नहीं,
अरे फिर बताओ,
तुम हमे ही क्या समझोगी
—————————————–

जींदगी के हर मोड़ पर उसका इंतजार करता था,
ये दिल ही था, जो जानते हुए भी एक बेवफ़ा से प्यार करता था,
—————————————–

मुझे छोड़ कर जो तुम जाओगे,
बड़ा पछताओगे,
फिर तुम वापस मेरे पास ही आओगे,
—————————————–

तेरी बातों पर तुझे गुमान था,
और कहती हैं की,
मैं पहले से ही बदनाम था,
—————————————–

सब्र रख तेरी औकात बताऊंगा,
क्या होता हैं प्यार,तुझे दिखाऊंगा,
इस वक्त पर नहीं,
तेरी यादों पर पावन्दिया लगाऊंगा,
—————————————–

यादों की पन्नो में सिमट जाती हैं यादें तेरे,
कैसे भूल जाऊ तेरी यादों को,
अब भी याद आती हैं,तो सिर्फ तेरी,
—————————————–

माना की प्यार नहीं होगा तुझे,
पर वेवक्त, जो मेरा वक्त बर्बाद की,
जरा मुझे लौटा जाना,
और प्यार किसे कहते हैं,
मुझे भी समझा जाना,
—————————————–

गौरतलब हैं की वो मुझे,
इश्क का मतलब समझाती थी,
और गरीबो को देख कर मुकर जाती थी,
—————————————–

कभी किसी अजनबी को अपना दोस्त मत बनाना,
वो तुम्हे समझने की जगह तुम में ही उलझ जाएगा,
और बाद में तुम्हे ही दोस्ती का मतलब समझाएगा,

sayri ki dayri hindi
—————————————–

नशा था, उसका जो कबका उतर गया,
प्यार था की नहीं ,पर हाँ अब भिखर गया,
—————————————–

कुछ लम्हों मैं ये पल सिमट जाते हैं,
पलकों में जब भी आशु हो,
तो क्यों उसके याद आतें हैं,
—————————————–

बात बस इतनी थी ,की कोई बात ही नहीं,
और वो एक दिन कहती हैं,
की तुमसे अब कोई बात नहीं,
—————————————–

जिस दिन अपनों से रूठ जाओगे,
तब जाना बहोत पछताओगे,
—————————————–

शाम का भुला घर को आया तो,
उसे भुला नहीं कहते,
—————————————–

वक्त सबको अपनी औकाद बता देती हैं,
इसलिए औकाद की बातें तो मुझसे,
नहीं ही किया करो तो बेहतर हैं,
—————————————–

तू क्या समझी थी,तेरे चले जाने के बाद में मर जाऊंगा,
अरे पगली मैं तो तेरा वैसा आशिक हु,
जो मरता नहीं ,पर अपने खोप से तुझे जरुर मार जाऊंगा,
—————————————–

उम्मीद हैं मुझे की मैं ज़रूर बदल जाऊंगा,
आज तू चली गयी तो क्या हुआ,
मैं तो अब भी तेरे मोह्ह्ल्ले में तेरा ही आशिक कहलाऊंगा,
—————————————–

वक्त को आभास थी,उसके चले जाने की,
पर उसे कौन समझाए,
जिसे उम्मीद भी नहीं थी मेरे बदल जाने की,
—————————————–

आग हु,
जो भी टकराएगा,
जल जाएगा,
—————————————–

तपता वही हैं जो जलता हैं,
चाहे आग सीने में लगी हो या दिल में,
वो खुद से ही खुदको बदलता हैं,
—————————————–

चाह नहीं मुझे तेरी,
मैं तो बस तेरी ख्वाइश में मरता हु,
किस्मत नहीं थी तेरी, मुझे पाने की,
इसलिए तो अब जी जान से मेहनत करता हु,
—————————————–

लिख दूंगा में अपने ही कलम से अपने भविष्य को,
बस सिर्फ तू ये मत कहना की,
एक जमाने में तुझे भी कभी मुझसे प्यार हुआ करता था,
वही लड़का हैं ये जिसके कलम में भी दाग हुआ करता था,

love sayri ki dayri
—————————————–

ढूंढता हु बहाने खुद को बदनाम करने को,
पर मेरी लिखावट ही काफी हैं,खुद से इजहार करने को,
मुझे शरेआम बदनाम करने को,
—————————————–

उससे रूठ जाना ही शयद अच्छा था,
पता तो चल जाता की प्यार कितना सच्चा था,
—————————————–

वक्त और उसपर ही भरोशा था मुझे,
न उसने साथ दिया न इस वक्त ने,
खामोश हु,क्योंकि वक्त के साथ अब सख्त मैं,
—————————————–

पलट जाती थी अपने ही बातों से,
ले आती थी मांग के प्यार अब भी खेरातों से,
—————————————–

उसे मेरे वजूद पर शक था,
जिसका खुद कोई वजूद नहीं,
उसे फिर मुझपे कैसा हक़ था,
—————————————–

इश्क वो भी उसे,क्या मज़ाक करते हो,
जिसे इश्क का मतलब नहीं पता
क्या तुम अब भी उसी से प्यार करते हो, ”
—————————————–

जाना था उसे, तो बहाने बना रही थी,
कल तक जो दोस्त भी नहीं हुआ करता था,
आज उसे भी दीवाने बता रही थी,
—————————————–

इश्क के समुंदर में,हम गोता नहीं लगाते हैं,
अरे हम तो हम हैं,हम तो आज भी अपने नाम से जाने जाते हैं,
और तुझे तो आज भी मेरे नाम से लोग कह कर बुलाते हैं,
—————————————–

फर्क नहीं पड़ता तेरे होने या न होने से,
आज मुझे मेरी मुकाम पर देख क्यों रो रही हैं,
मुझे अब फर्क नहीं पड़ता तेरे रोने या न रोने से,
—————————————–

दिल था उसके पास ज़नाब,अब कैसे सम्हल में पाउँगा,
अरे बिखर गया हु,बस यही बहाने बनाऊंगा,
क्यों नहीं कहता भाई, मैं अब उसे उसकी औकाद दिखाऊंगा,

sayri ki dayri sms
—————————————–

वो दूर हैं तो रहने दे, तेरा क्या बिगर ये जाएगा,
उसके चले जाने से,मुझे मलूम हैं,तू जल्द सम्हल जाएगा,
—————————————–

वक्त और तारिक पता हैं मुझे,
क्या खता तूने की मैं भी तुझे बताऊंगा,
अरे wait कर पगली, समय के साथ ही,
तुझे अपनी औकाद दिखाऊंगा,
—————————————–

वो अजनबी थी और अजनबी ही बन गयी,
—————————————–

उससे उम्मीद ही रखना बेकार हैं,
जिसे खुद से उम्मीद न हो,
—————————————–

दर्द बस कुछ पल के ही होते हैं,
कुछ पल में ही सिमट जाते हैं,
जो किसी के खोने का, अक्सर अहसास कराते हैं,
—————————————–

वक्त को आराम चाहिए और मुझे उस वक्त से हिसाब,
—————————————–

वो दूर चली गयी तो क्या मैं टूट जाऊंगा,
अरे मैं कोई मोती का हार नहीं,जो बिखर जाऊंगा,
मैं खुद सवर जाऊंगा,
—————————————–

खामोश रहने का ये मतलब नहीं, की रिश्तो का टूट जाना होता हैं,
रिश्तो में बनाबटी ख़ामोशी को सुलझाना भी होता हैं,
—————————————–

उठ जाना सुबह,
लग जाना मेहनत करने,
खुद के साथ इस वक्त से लड़ने,
देखना किस्मत भी बदल जाएगी,
और ये वक्त भी,
बस उठ जाना सुबह खुद को बदलने,
—————————————–

चिडियों के चहचाहट से पूरा समां गूंज रहा हैं,
और तू कहाँ सोया, अपने आंखे मुंझ रहा हैं,
गुड मोर्निंग,
—————————————–

सुबह की प्रकाश ताजगी भर जाती हैं,
ये दिमाग को विकसित करने के काम आती हैं,
—————————————–

ये वक्त तुम्हारा हैं , उठो जागों और अपने,
मेहनत की और भागना शुरू करो,
—————————————–

हिम्मत हैं तबतक लड़ते रहो,
मैं जित जाऊँगा एक दिन,
बस यही खुद से कहते रहो,
—————————————–

तुम कुछ भी कर सकते हो,
खुद पर यकीन रखो तो सही,
मेहनत हैं, वैयर्थ नहीं जाएगी,
बस थोरा और खुद पर यकीन रखो तो सही,
—————————————–

सूरज की प्रकाश तुम्हे ,
सच के मार्ग पर चलने के लिए,
उर्जा प्रदान करती हैं,
तुम कुछ भी कर सकते हो,
बस तुम्हे सूर्य यही कहती हैं,
—————————————–

राह कैसी भी, आसान बन ही जाती हैं,
मेरे दोस्त केबल मेहनत ही होती हैं,
जो काम आती हैं,
—————————————–

हर पल मुशकुराना सीखो,
खुद को खुद के काबिल बनाना सीखो,
देखना एक दिन वक्त भी तुम्हारा गुलाम होगा,
बस ये वक्त के साथ खुद को बताना सीखो,
—————————————–

मंजील का connection तुमसे ही होता हैं,
अगर तुम ही मंजील से दूर भागोगे,
तो फिर कैसी मंजील,और कैसा रास्ता,

sayri ki dayri love
—————————————–

किसी की मुश्कुराहट की वजह बनो,
ताकि उसे किसी अपने के होने का अहसास तो लगे,
—————————————–

हर वक्त खुद को इतना मजबूत करो,
की चाहे कितनी भी आंधी क्यों न आ जाए,
तुम अपने मार्ग से कभी नहीं भटकोगे,
—————————————–

दिन तुमसे बनता हैं,बस ये तय करो ,
की आज तुम्हे,करना क्या क्या हैं, ”
—————————————–

सफ़ल वही वक्ती होता हैं,
जिसके मन में सफलता पाने का श्र्ये हो,
मेहनत करने की उमंग,और मंजील पाने की चाह हो,
—————————————–

चलता तो हरेक वक्ती हैं, मंजील की चाह में,
कोई सपने अधूरे छोड़ देता हैं,तो कोई राह अधूरे,
—————————————–

इरादें बुलंद होने चाहिए,
आस्मा को पाने के लिए,
हिम्मत होने चाहिए,
ठोकरे खाने के लिए,
—————————————–

वक्त किसी का नहीं होता,
बस उस वक्त को वक्त के साथ,
अपना बनाया जाता हैं,
—————————————–

हिम्मत रख और एक नई उमंग के साथ,
इस सुबह की एक नई शुरुवात कर,
—————————————–

दुसरो को देखना नहीं, खुद को दिखाना सीखो,
लोगों को अपनि सफलता से,
खुद के बारे में बताना सीखो,
—————————————–

राह कैसी भी हो,
तुम ही हो जो,
उस राह को,
आसान बना सकते हो,
—————————————–

डरना वहा, जहा तुम्हारी गलती हो,
बिना गलती के तो,
मैं खुद किसी से नहीं डरता,
—————————————–

काटो और फुल वाले रास्तों में,
काटें वाले रास्ता चुनना,
क्योंकि वो कटें ही होते हैं,
जो पैरो में लगने के बाद सम्हालना सिखा देते हैं,
—————————————–

बुलंद कर होसले और घबराना नहीं,
जब तक जान हैं तेरे अन्दर,
तब तक खुद को हराना नहीं,
—————————————–

दुनिया का क्या हैं,
वो तो तुम्हे कुछ भी,
कभी भी बोल देगी,
बस सम्हालना तुम्हे हैं,
की तुम किस बातों को दिल से लेते हो,
और किस बात को ऐसे ही छोड़ देते,
—————————————–

वक्त किसी की जागीर नहीं होती,
बस वो अपने होने का अहसास कराते रहती हैं,
लोगों को केबल डराते रहती हैं,

sayri ki dayri new 2020
—————————————–

अगर तुम दिल से हार मान लेते हो,
तो तुम्हारा हारना तय हो जाता हैं,
और अगर दिल से जीत,
तो तुम्हे जंग के मैदान में कोई हरा नहीं सकता,
—————————————–

जो डरता हैं,वही वक्त से पहले मरता हैं,
—————————————–

अपने सपने को साकार करना सीखो,
सपने पर अपना अधिकार रखना सीखो,
—————————————–

मुश्किल हो वक्त तो घबराना नहीं,
होसले को टूट कर खुद कभी दिखाना नहीं,
मंजिल मिल जायगी तुम्हे,
बस मंजिल से पहले किसी को बताना नहीं ,

sayri ki dayri real
—————————————–

मोहब्बत कर तो सही, अपने ही कामों से,
मंजील बन जाएगी सिर्फ तेरे ही नामों से, ”
—————————————–

वक्त को कह दे की तू बेवक्त हो चला हैं,
अब तू जब भी अपने कामो को शुरू करता,
वो वक्त ही तेरा हो चला हैं,
—————————————–

मुझे अपने मंजिल से प्यार हैं,
और लोगों को मुझसे,
—————————————–

तेरे अंदर ज़रूर कोई खाश हैं,
फिर क्यों तू ,और किस बात पर उदाश हैं,
माना अभी वक्त तेरा नहीं,
पर अभी अँधेरा, तो कौन कह दिया की फिर सवेरा नहीं,

2 Line Status

Whatsapp Sad Status

Friendship Status

Happy BirthDay Status

—————————————–

चल उठ और जबतक मंजील नहीं मिल जाती,
तब-तक कोशिश कर,
सफलता आज नहीं तो कल मिल ही जाएगी,

—————————————–

अँधेरे से जो डरता,
वो कुछ नहीं करता हैं,
और जो लड़ता हैं,
मंजिल भी उसी पे मरता हैं,
—————————————–

रुकना आसान होता हैं,
और चलना कठिन,
अब फैसला तुम्हारा हैं,
तुम्हे क्या करना हैं,
—————————————–

रुक गए तो जिते जी मर जाओगे,
चलते रह गए तो ज़रूर मंजील पाओगे,
—————————————–

हिम्मत रख तो हमसफर अपने मंजील पाने के लिए,
मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी,
—————————————–

ख़्वाब उच्चे होने चाहिए,
होसलों में जान होने चाहिए,
जी तो लेते हैं लोग ऐसे ही,
बस किस्मत की लिखावट में सिर्फ,
तुम्हारे ही हाथ होने चाहिए,
—————————————–

वक्त को बता दो उसने पंगा,
गलत आदमी से ले लिया हैं.
—————————————–

तेरी हुनर तू तय करेगा,
तू ही सब कुछ,
अब करना क्या हैं तुझे,
ये तू ही तय करेगा,
—————————————–

लोगों के बातों को अगर दिल में लेता हैं,
तो उनलोगों को अपने कलम से,
मुहतोड़ जबाब भी देना सिख,
—————————————–

कितनी जालिम हैं, ये एग्जाम,
आती हैं,और चली जाती हैं,
पर जातें जातें खूब रुलाती हैं,
—————————————–

एग्जाम लेकर क्यों बच्चों को तड़पाना हैं,
छोड़ दो न यार,हमें ज़माने को कुछ नहीं दिखाना हैं,
पर हाँ हमें ही इतिहास बनाना हैं,
—————————————–

लोगों को बड़े जल्दी गलती का अहसास हो जाता हैं,
कुछ नहीं पढ़े साल भर,
एग्जाम के समय इसका आभास हो जाता हैं,
—————————————–

यहाँ जिन्दगी हर पल एग्जाम की तरह होता हैं,
जहा वक्त गुजरने के साथ साथ आपकी गलती बताई जाती हैं,
आपने कितनी गलती कर दि उसकी परिणाम दिखाई जाती है,
—————————————–

एग्जाम हैं,थोड़ी न मेरा तक़दीर बताएगा,
अपुन तो खुद का तक़दीर, खुद लिखते जाएगा,
—————————————–

sayri ki dayri facebook

शोर बहोत थी मोहल्ले में,
सब एग्जाम पास होने के खोशी में व्यस्त थे,
और मैं खुद की कमी तलाशने में,
—————————————–

अगर बार बार फ़ैल होने वाला व्यक्ति मुर्ख होता,
तो फिर ये 1000 गलितियो के बाद भी,
बल्ब का अबिश्कार नहीं हुआ होता,
—————————————–

अगर तुम खुद को मुर्ख समझते हो तो,
तुमसे बढ़ कर इस दुनिया में कोई मुर्ख नहीं,
—————————————–

रिजल्ट किसी का भविषय तो नहीं बता सकता,
ये तो सिर्फ तुम्हे और मेहनत करने के लिए प्रेरित करती हैं,
—————————————–

मोहल्ले वाले तुम्हारे रिजल्ट पर हस्ते हैं, न की तुमपे,
क्योंकि तुमसे टक्कर लेने की उनकी औकाद नहीं,
तुमसा वो बन जाए ऐसी उनमे कोई बात नहीं,
—————————————–

बार बार कोशिश करने पर भी मिल जाती हैं असफलता,
इसका मतलब ये थोड़ी न,दूर चली गयी अब मुझसे सफ़लता,
—————————————–

राह आसान नहीं होती उसे बनाना पड़ता हैं,
—————————————–

कलम की ताकत वही समझ सकता हैं,
जो बड़े प्यार से ये मेरी कलम हैं, कह सकता हैं, ”
—————————————–

दिल में अगर आग हो मेहनत करने की,
तो तुम्हे कोई रोक नहीं सकता हैं,
सफलता हाशिल करने से,
—————————————–

दिल को कैसे समझाए ज़नाब,
ये आज भी बिना मेहनत के कुछ हाशिल नहीं करना जानता,
—————————————–

एग्जाम में अभी थोड़े दिन जरुर बचे हैं,
और बचे दिन में होगा बस बाबा जी का ठुलू,
मत बना भाई खुद को उल्लू,
—————————————–

रिजल्ट का उन्हें बेसब्री से इंतजार रहता हैं,
जिन्हें जले पर नमक चिढ्कने की आदतों का सुमार रहता हैं,
उन्हें बस खुद नहीं दुसरो के नम्बरों से प्यार रहता हैं,
—————————————–

असफल होना भी महानता का काम हैं,
मुबारक हो आप उनमे से हैं,
जो विप्पतियो का सामना परिणाम से नहीं,
बल्कि खुद से करते हैं,
—————————————–

राह में चाहे कितने भी ठोकर हो,
मंजील तक ले ही जाती हैं,
—————————————–

मैं तो मेहनत के पीछे भाग रहा था,
और लोग मेरे परिणाम से मेरा ही आंकलन कर रहे थे,
जिसके ज्यादा नम्बर आए वो तो केबल उसे पर मर रहे थे,
—————————————–

आपने मेहनत की और आप हार गए,
तो क्या हुआ,आपने कमसे कम मेहनत तो की,
वही बहोत बड़ी बात हैं,
—————————————–

तू ख़वाब उच्चे रख,सफलता मिल ही जाएगी,
विफलता ही तुझे सफल होने का राज़ बताएगी,
—————————————–

वक्त हैं बदल जाता हैं,
मेहनत करके तो देख,
ये वक्त भी सम्हल जाता हैं,
—————————————–

खुद से रूठ जाना इलाज नहीं होता,
बिना मेहनत कभी सर पे ताज नहीं होता,
—————————————–

दुनिया तुम्हारे परिणाम के पीछे भागती हैं,
उन्हें कोई मतलब नहीं हैं,की तुमने कितनी मेहनत की,
—————————————–

तूने मेहनत की ये तुझे पता हैं,
फिर क्यों देता तो खुद को सजा हैं,
हारने के बाद जीतने में ही तो मज़ा हैं,
—————————————–

सफ़ल होने का एक ही राज़ हैं मेहनत,

sayri ki dayri Motivational
—————————————–

ख़्वाब उचे रखो,
ताकि कितनी ही बिप्पती आए,
तुम उसका जम के सामना कर सको,
—————————————–

जिसके सपनों में उड़ान होती हैं,
उसी में बसी उसकी जान होती हैं,
लोगों को न देखकर चलते रहता हैं वो पथ पर,
क्योंकि पथ कैसे भी हो,सफलता से ही उसकी पहचान होती हैं,
—————————————–

वक्त बदल जाएगा,जो लोग तेरी गलतिया निकालते हैं,
कल वही तेरी तारीफ करेंगे,
कितना अच्छा लड़का हैं वो,
बस यही वो सबसे कहेंगे, ”
—————————————–

खुद पर विश्वास रख,
तू ज़रूर एक दिन खाश बन जाएगा,
आज दिल के पास नहीं हैं तो क्या हुआ,
तू कल लोगों से ही जाना जाएगा,
—————————————–

तू कुछ भी कर सकता,
ये तेरा रिजल्ट नहीं,
केबल तू ही बता सकता हैं,
लोगों को तू ही हैं जो आयना दिखा सकता हैं,
—————————————–

मेरे सम्हलने का वो इंतजार कर रहे थे,
मुझसे ज्यादा वो,
मेरे रिजल्ट को जी प्यार कर रहे थे,
—————————————–

सफ़ल होने के लिए खुद पर विश्वास होनी चाहिए,
वक्त के साथ साथ खुद में बदलाव होनी चाहिए,
फिर देखो सफलता कितनी शोर मचाती हैं,
बस इसके लिए मेहनत भी कई बार होनी चाहिए,

—————————————–

फिक्र मत कर खुद के रिजल्ट की,
लोग हैं तेरे रिजल्ट की फिक्र करने के लिए,
—————————————–

क्या मेरा भविष्य मेरा रिजल्ट बातएगा,
तो फिर आप बताओ,
apple के ceo के तो मात्र 67% थे 12th में,
तो आज दुनिया के सबसे अमीर आदमी कैसे बन गए,
—————————————–

दुनिया में सब बकवास हैं,अगर वो चीज़
तुम्हारे जिन्दगी में महत्व नहीं रखता,
—————————————–

रिजल्ट भविष्य नहीं बताता,
बस तुम ही होते हो जो उसे अपना भविष्य मान लेते हो,
—————————————–

इन कागज़ के टुकरे की औकाद कबसे हो गयी,
जबसे तुमने इन्हें खुद की औकाद मान ली,
तबसे इनकी भी औकाद हो गयी,
—————————————–

सफ़ल होने का राज़ हैं ख़ामोशी के साथ मेहनत,
फिर देखो दुनिया कितनी शोर मचाती हैं,
—————————————–

जिसे मतलब हैं तुम्हारे रिजल्ट पर,
उन्हें मतलब ही रखने दो,
अपना काम हैं मेहनत करना,
मुझे मेहनत ही करने दो ,
—————————————–

जिस दिन ज़िद पर आ जाऊंगा,
इतना विश्वाश हैं मुझे की,
मैं कुछ भी कर जाऊंगा,
—————————————–

वक्त बदल जाते हैं खुद को सम्हलने में,
और बस कुछ वक्त लगते हैं,
खुद को बिगरने में,

sayri ki dayri hindi Motivation
—————————————–

माना की तुम एक बार गलत हो सकते हो,
पर अगर तुम बार बार गलत होते हो,
तो गलती तुम्हारी हैं,
—————————————–

लाख बुरे दोस्त मिल जातें हैं,बिगारने के लिए,
अरे एक ही दोस्त काफ़ी होता हैं,
सम्हालने के लिए,
—————————————–

गलत फमि पलना जरुर,
मगर ये नहीं,
की तुम कुछ नहीं कर सकते,
—————————————–

उम्मीद को भी तुमसे उम्मीद हो जाएगी,
बस एक बार खुद से उम्मीद तो कर के देखो,,
—————————————–

माना की राह कठिन हैं,
पर मुझे पता हैं, की मैं बना ही,
कठिन रास्तों पर चलने के लिए ही हु,
—————————————–

दिल से हार मान लेना,
गलत हैं,
क्योंकि ये दिल ही होता हैं,
जो अपने फैसलों को भी बदल देता हैं,
—————————————–

दिल में आग लग जाती हैं,
जब अपना ही अपने होने का हक खो देता हैं,
उसे कैसे समझाऊ,ये अखे भी उसके याद में,
कई बार नम होकर भी रो देता हैं,
—————————————–

मैंने तो बड़े सिद्दत से चाहा था उसे,
उसने तो मुझे बहोत गिरा हुआ ही समझ लिया,
मैं उसे प्यार का मतलब समझाने में लगा हुआ था,
उसने तो मुझे अपना पालतू ही समझ लिया,
—————————————–

हाँ आज कल इश्क की बातें वो करते हैं,
जिन्हें इश्क का मतलब भी नहीं पता,
—————————————–

हम तो बेहद गंभीर थे उसके लिए,
और उसने तो हमें भी एक दोस्त ही समझ लिया,
—————————————–

ज़नाब हम तो मोहब्बत कर रहे थे उनसे,
और उन्होंने तो हमे ही अजनबी समझ लिया,
—————————————–

वक्त वक्त की बात हैं सब बदल जातें हैं,
जब भी लगती हैं चोट अपनों से,
सब सम्हाल जातें हैं, “

Truth sayri ki dayri
—————————————–

तुम अगर कुछ करना चाहते हो,
तो अपने लिए करो अपने माँ – पिता के लिए करो,
क्या भाग्तें हो उनके पीछे,
जो तुम्हे ही तुम्हारी हैसियात बताने में लगे हुए हैं,
—————————————–

अगर खुद पर रखते हो भरोषा तो तुम्हे,
दुनिया की कोई ताकत नहीं हैं जो तुम्हारे,
चाह की राह को रोक सके,
तुम्हे मंजील पहुचने से पहले ही टोक सके,
जो कुत्ते बन कर तुम पर भोक सके,
—————————————–

मत करना फिक्र सफलता तो मिलेगी जरुर,
हां वो भी तुम्हे,
—————————————–

कभी दिल घबराये तो खुद से बस इतना कहना,
मैं कर सकता हु और इसे हाशिल करके ही रहूँगा,
—————————————–

अपने मतलब के ही लोग मीलेंगे तुम्हे,
बस याद रखना तुम्हे उनसे ,
कैसे मतलब निकालना हैं,
कैसे उन लोगों को खुद सम्हालना हैं,
—————————————–

वक्त पर कोई काम नहीं आता,
पहचान मिलने तो दो,
सब आ जाएंगे अपना अपना योगदान देने,
—————————————–

असफल हो तो क्या हुआ,
हमेशा याद रखना,
सफल असफल के बाद ही आता हैं,
जो सफलता का राज़ बताता हैं,
( अ+सफल = असफल ),
—————————————–

दुनिया में सब नाटक के पात्र हैं,
बस तुम्हे ये तय करना हैं,
की तुम्हे कौन सी भूमिका निभानी हैं,
एक राजा या एक फकीर की,
—————————————–

लाख लोग तुम्हे गलत समझे,
पर इतना तो विश्वाश रखो,
की लोग भी तुम्हे समझने लगे हैं,
चाहें गलत ही क्यों न हो,
—————————————–

मोहब्बत के बाद तकरार होता हैं,
तब जा कर ही बेहद प्यार होता हैं,
—————————————–

आप अगर किसी अनजान से मोहब्बत कर सकते हो,
तो फिर खुद के बनाए अनजान राह पर क्यों नहीं चल सकते हो,
—————————————–

वक्त आने दे एक दिन तेरा भी आएगा,
बस खुद को यकीन दिला तो सही,
देखना सब सम्हाल जाएगा,
—————————————–

दुनिया को क्या पड़ी हैं,तुम्हारे बारे में सोचने को,
अरे जब वो ठिक से खुद के बारे में सोच नहीं सकती,
—————————————–

हिम्मत रख मेरे दोस्त,होसला रख तू बुलंद,
मंजील भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी,
—————————————–

इश्क के चक्कर में लोग बर्बाद हो जातें हैं,
और जो लोग सम्हल जातें हैं
वो अवाद हो जातें हैं, ,
—————————————–

मत करना यकीं खुद से ज्यादा किसी और पर,
लोग बदल जातें हैं वक्त देख कर,
—————————————–

मैं हु तो खास ही हु न,
जो आपके दिल के पास हु न, ”
—————————————–

लोग कहते हैं,कितना बदल गया हैं तू,
और मैं खुद को कहता हु,
मतलब की लोगों से दूर हु,
इसलिए कितना सम्हल गया हैं तू,
—————————————–

ज़िद हो तो मुकाम हाशिल हो ही जाती हैं,
लोगों को उसके खोने का,
फिर क्यों पागलो की तरह मतलब समझती हैं,
—————————————–

राह आसान नहीं होता मेरे दोस्त,
बनाना पड़ता हैं,
खूद को राह दिखाना पड़ता हैं,
—————————————–

इश्क के समुंदर में,मैं भटक रहा था,
जिससे प्यार करता था,उसी का चेहरा खटक रहा था,

“Think” sayri ki dayri
—————————————–

Sayri ki Dayri

बुलद हो होशले तो घबराना मत,
बिच रास्तें मैं खुद को छोड़ कर कभी जाना मत,
—————————————–

मुझे ही ,यकीं दिलाने में लगी हुई थी दुनिया ,
जिस बातों को वो खुद नहीं समझ पाए,
उसे ही समझाने में लगी हुई थी दुनिया,
—————————————–

उसकी ख़ामोशी को प्यार समझ बेठा था,
ज़नाब बस इतनी सी ही गलती कर मैं बेठा था,
—————————————–

उसे पता था, मोहब्बत बेहिसाब था मुझे,
पर उसे कद्र ही नहीं थी मेरी मोहब्बत की,
और वो समझी बड़ा लाचार था मैं,
—————————————–

मैं जीने की कोशिश में लगा हुआ था,
और उसकी यादें मुझे ही गिराने में,
हार गई यादें उसकी ,
वक्त नहीं लगता मुझे यादें मिटने में,
—————————————–

दिल का क्या करे ज़नाब,
अब भी पिघल जाता हैं,
अब प्यार नहीं उसकी औकाद याद आता हैं,
—————————————–

मुझे झुकाने की कोशिश कर तो रहे थे सब,
पर उन्हें कैसे समझाऊ झुकने वाले नहीं हैं हम अब ,
—————————————–

राह कठिन हैं ये आपका डर बताता हैं,
कठिन को आसान आपका साहस बनाता हैं,
—————————————–

उम्मीद मत छोड़ना,नहीं तो बिखर जाओगे,
किस्मत लिखना तो शुरू करो,देखना सवर जाओगे,
—————————————–

मत करना कभी गुरूर,खुद की सफलताओ का,
बिखर जाती हैं ,ताश की पत्तो की महल,
—————————————–

कभी जान्नी हो खुद कि सच्चाई,तो बस मुशकुराना,
ऐने के सामने जड़ा खुद को चेहरा दिखाना,
—————————————–

मत ख़ोज दुसरो को खुद में, भटक जाएगा,
जब सबकुछ तेरे अंदर हैं,तो किस बात की चिंता,
तू ही इतिहास बनाएगा ,
—————————————–

मत करना वो भूल जो छमा के काबिल न हो,
बिश्वास रखना उस पर भी जो खुद के काबिल ना हो,
—————————————–

राह आसान हो या नहीं,बस मुश्कुराते चलना,
कुछ नहीं तो भी सही,
बस खुद में जीत के गीत गुनगुनाते चलना,
—————————————–

खुद कभी किसी के काबिल बनो,
की दुनिया तुम्हारा सहारा ले,
न की तुम दुनिया का,
—————————————–

जब तक दम हैं लड़ते रहो,
खुद से ज्यादा मेहनत करते रहो,
कौन कह दिया की तुम हार जाओगे,
तुम उन्हें ही अपना भविष्य बताओगे,
मुझे मालूम हैं ज़रूर तुम जीत के दिखाओगे,
—————————————–

जीत हार तो एक ही सिक्के के दो पहलु हैं,
जीत गए तो मुश्कुराओगे,
हारने के बात तो तुम जीत ही जाओगे,
—————————————–

मत करना चिंता,जीत तुम्हारी तय हैं,
बस वक्त तुम्हे,थोरा इंतजार करा रही हैं,
तुम्हे वक्त से लड़ना सिखा रही हैं,
—————————————–

मैं कौन हु,ये मैं ही बता सकता हु,
दुनिया को मैं ही उसके औकाद बता सकता हु, ”
—————————————–

लोगों के चाहने से क्या होगा,
होगा तो वही जो मैं चाहूँगा,
—————————————–

मत कर गुरूर खुद पे,
चकनाचूर हो जाएगा,
वक्त हैं ये और तुझे तेरी औकाद
वक्त ही बताएगा,
—————————————–

मेरी हिम्मत ही मेरी पहचान बताती हैं,
ठोकरे मुझे तो केबल चलना सिखाती हैं,
—————————————–

जीत तो उसी की होती हैं,जिसमे दम होता हैं,
वर्ना तो सब किस्मत पे ही रोता हैं,
—————————————–

बात इतनी सी थी की वो हमें खुद्दार बता रहे थे,
प्यार तो नहीं था हमसे,
फिर क्यों वो हमें प्यार करना बता रहे थे,,
—————————————–

इश्क के समुंदर में ,मैं डूब जाता ही सही,
ये तो पता चलता की कितनी मोहब्बत करती हैं वो मुझसे,,
—————————————–

इश्क था उससे, तो ही तो जता रहा था,
मैं उसे, आज प्यार किसी कहते हैं,
सिखा रहा था,
—————————————–

उसे उम्मीद तो नहीं थी मुझसे,
मैं ही पागल था जो उसे उम्मीद दिखा रहा था,
प्यार करता था,इसलिए तो उसके खोने पर पछता रहा था,
—————————————–

दिल का क्या करे जन्नाब प्यार हो जाता हैं,
कैसे समझाए इसे,की उसे मेरा प्यार समझ नहीं आता हैं,
—————————————–

इश्क था तुमसे बेपंनाह,पर इजहार से हम डरते थे,
आज तुम्हारे चले जाने के बाद भी,
तुम्ही से मोहब्बत करते थे,
—————————————–

होता वही हैं जो ख़ुदा चाहता हैं,
शायद तुम न मिलो मुझे यही ख़ुदा चाहता हैं,

sad sayri ki dayri
—————————————–

उसे मेरे लम्हों से प्यार था,
और मुझे तो केबल उससे,
—————————————–

दिल हैं टुटता हैं तो दर्द देता ही हैं,
आज कल उमीदो से ज्यादा उसके खबर लेता ही हैं,
—————————————–

दुनिया तो बर्बाद थी ही,
बस कसर था उन्हें सिर्फ मुझे बर्बाद करने की,
—————————————–

तुम रूठ जाओगे तो मना लूँगा,
यही गलत फमि थी मेरी, ,
—————————————–

छोड़ कर जाना अगर ठीक था,
तो फिर आए ही थे, क्यों जिन्दगी में,
—————————————–

गजब का प्यार करता था मैं उससे,
उसे तो कदर ही नही थी मेरी मोहब्बत की, ”
—————————————–

जब भी टुटता हैं आशिक,
तो इतिहाश लिखता हैं,
फिर क्यों तू रूठ गया टूट कर,
तुझे भी तो इतिहाश लिखनी हैं,
—————————————–

मैं खुद पर भरोषा छोड़ कर उस पर कर रहा था,
मैं अब उसके चले जाने के बाद क्यों जीते जी मर रहा था,
—————————————–

तुम, तुम ही तक रह जाना,
बाद में मत कहना मेने तो अपने जिन्दगी का,
सुन्हेरा पल खो दिया,
—————————————–

दिन और रात में कोई अंतर नही होता,
जब काम शुरू करो,वो वक्त तुम्हारा हो जाता हैं ,
—————————————–

उम्मीद हैं ,इसलिए तेरे जाने के बाद भी मैं टुटा नहीं,
और तुझे लगता हैं,मैं बन्दा ही खराब था ,
—————————————–

इश्क को इश्क होने का गुमान था,
जिससे इश्क ही नहीं,
फिर उसे किस बात के खोने का अभिमान था,
—————————————–

जा चली जा जिन्दगी से फिर लौट कर आना मत,
अपनी सकल दुबारा दिखाना मत,
तूने खो दिया एक अच्छा दोस्त,
इसके लिए बाद में पछताना मत,
—————————————–

हारने के बाद जीत का मजा दूगना हो जाता हैं,
और जो हार समझ लिया, वो कुछ नहीं कर पता हैं,
—————————————–

किस बात का गम छुपा हैं जिन्दगी में,
जब तू कुछ ले कर ही नहीं आया,
तो तुझे खोने का क्या डर हैं,
—————————————–

रूठ जाना अपनों से मगर थोरे देर के लिए,
क्योंकि वो खाश होते हैं, जिनके अपने होते हैं,
—————————————–

मोहब्बत थी,तुम्हे ,पता है मुझे,
इतनी मोहब्बत थी की तुम्हे अहसाश भी नहीं था,
और अब कहती हो की तुम्हे उससे प्यार भी नहीं था,
—————————————–

किसी के न होने का मैं क्यों गम करू,
जब उसे मेरे होने का वजूद ही नहीं पता,
—————————————–

तजुरबो के सहारे ही वो काम करते हैं,
बिना डिग्रियों के भी वो नाम पड़ते हैं,
बस जुन्नुन झलकता हैं उनके अन्दर,
जितना बढ़िया हैं उनका तजुर्बा ,
उतना ही अच्छा वो काम करते हैं,
—————————————–

मत कर चिंता या तो तेरा नाम होगा,
या तेरा कर्म सबसे महान होगा,
—————————————–

एक बात हमेशा याद रखना,
बिना पंखो के भी उड़ान होता हैं,
बस हौसलों में जान होता हैं,
—————————————–

उम्मीदों से ज्यादा खुद पर करना भरोषा,
क्योंकि तेरी उम्मीद ही तुझे काम देगी,
वक्त पर तुझे यही केबल पहचान देगी,
—————————————–

Whatsapp Status

Attitude Status

A new Year Wish 2020

Inspirational Status